महिला से बदसलूकी व एट्रोसिटी एक्ट के मामले पर 16 माह बाद जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह का हुआ बयान दर्ज

महिला से बदसलूकी व एट्रोसिटी एक्ट के मामले पर 16 माह बाद जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह का हुआ बयान दर्ज

संतोष साहू

बिलासपुर – महिला एवं बाल विकास विभाग बिलासपुर जिला में एक है लेकिन यहां मामले अनेक है। विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक आरोपों से घिरे हुए हैं। और आरोप भी साधारण नहीं बल्कि अवैध वसूली का आरोप, संविदा भर्ती घोटाला का आरोप, बालिकाओं की सुरक्षा में चूक एवं महिला से बदसलूकी कर जातिगत गाली गलौज देने का गंभीर आरोप लगे हैं। अगर हम मौसम की बात करें तो ठंड ने लगभग विदाई देकर गर्मी ने दस्तक दे दिया है। लेकिन महिला एवं बाल विकास विभाग पर इन दिनों आरोपों की वर्षा ऋतु (आरोपों की झड़ी) लगी है। जिसके कारण महिला एवं बाल विकास विभाग की छवि बिलासपुर में धूमिल हो रही है। हम अपने पाठकों को यहां पर बताना चाहेंगे कि इस विभाग की खासियत यह रही है कि अनेक अखबार में अनेक समाचार प्रकाशित होने के बाद मामला सिर्फ जांच में रखकर दिया जाता है। और समय के साथ मामले को दाखिले दफ्तर कर दिया जाता है। इसी कड़ी में विभाग का एक नया मामला आपके सामने प्रस्तुत है जिसमें की कानूनी कार्यवाही को लेकर लोगों के बीच कई तरह की चर्चा हो रही है।

गौरतलब है कि सोनू स्व सहायता समूह बिनोरी कि अध्यक्ष ने महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह के खिलाफ थाने में दिनांक 19-9-2018 को लिखित शिकायत किया है। साथ ही उन्होंने पुलिस अधीक्षक बिलासपुर , पुलिस महानिरीक्षक को भी शिकायत किया है। शिकायतकर्ता महिला के अनुसार वह मस्तूरी क्षेत्र के सेक्टर 2 लोहारसी रेडी टू ईट के तहत सामग्री वितरण का कार्य करती है। उक्त कार्य के लिए 5 वर्ष का अनुबंध है। लेकिन आवेदिका को उक्त कार्य से पृथक कर दिया गया था। जिसके बाद आवेदिका ने अतिरिक्त आयुक्त बिलासपुर के समक्ष स्थगन आवेदन प्रस्तुत कर 2-4-2018 को स्थगन आदेश प्राप्त किया। स्थगन प्राप्त होने पर पुनः रेडी टू ईट सामग्री की वितरण हेतु नियुक्ति किया गया। जिसे उसने पूरा किया। उसके बाद जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह द्वारा आवेदिका समूह को माह अगस्त 2018 का सामग्री वितरण करने मौखिक रूप से मना कर दिया था। और सामग्री वितरण का कार्य लक्ष्मी स्व: सहायता समूह सेक्टर भटचौरी से कराया गया।आवेदिका ने सुरेश सिंह के द्वारा किए जा रहे उक्त न्यायालय के आदेश की अवमानना एवं विधि विरुद्ध ढंग से आवेदक का समूह के द्वारा वितरण की जा रही रेडी टू ईट वितरण की कार्यवाही बंद कराने की शिकायत श्रीमान आयुक्त महोदय बिलासपुर से किया था।

शिकायतकर्ता के अनुसार उक्त शिकायत को वापस लेने के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह ने अपने कार्यालय में उसे बार-बार बुलाकर कई तरह से दबाव डाला था। इसी तारतम्य में दिनांक 13-9-2018 को सीपत परियोजना अधिकारी उमाकांत गुप्ता ने मोबाइल नंबर 9098499320 से संपर्क कर उसे जानकारी दिया कि जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह ने अपने कार्यालय बुलाया है। जब वह कार्यालय गई तब सुरेश सिंह ने उसे शिकायत वापस लेने के लिए पुनः दबाव डाला मना करने पर सुरेश सिंह ने प्रार्थी को साली चमार कुत्तिया चमारिन कहकर जातिगत गाली गलौज देकर अपमानित किया एवं उसके बाह को पकड़ लिया था घटना के समय प्रार्थी के साथ दो अन्य लोग भी उपस्थित थे।

उक्त मामले पर मीडिया ने जब अजाक थाना के डीएसपी सुरजन सिंह से मामले पर जानकारी लिया तब उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता का बयान व घटना के दिन उपस्थित शिकायतकर्ता के साथ आए अन्य दो लोगों का बयान पूर्व में दर्ज किया जा चुका है। वही मामले पर आरोप से घिरे हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह का बयान भी होली की पूर्व दर्ज किया जा चुका है। पूरे मामले पर गौर करने वाली बात है कि एक अनुसूचित जाति की महिला ने जातिसूचक (जातिगत) गाली गलौज व बाह पकड़ कर बदसलूकी करने से संबंधित गंभीर शिकायत 19-9-2018 को किया था।और इतने गंभीर मामले में लगभग 16 माह बाद आरोप से घिरे जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह का बयान दर्ज किया गया है।

पुलिस की कार्यवाही को लेकर लोगों के बीच तरह-तरह की बातें हो रही है। प्रदेश के डीजीपी ने महिला के संबंधित प्रकरण पर त्वरित कार्यवाही करने के आदेश पुलिस विभाग को दे रखा है लेकिन उनका यह आदेश शायद बिलासपुर जिले में लागू नहीं होता है। इसीलिए महिला से बदसलूकी व एट्रोसिटी जैसे गंभीर मामले पर 16 माह तक कोई कार्यवाही नहीं किया गया है यह फिर यूं कहें कि पुलिस विभाग द्वारा माथा देखकर चंदन लगाया जाता है। आम व्यक्ति और खास व्यक्ति को परख कर कार्यवाही किया जाता है। शायद यही कारण है कि जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह के खिलाफ अब तक कार्यवाही पूरी नहीं हो पाई है। और जांच अधिकारी बहुत जल्द ही कार्रवाई पूरी करने की बात कह रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *