अफवाह फैलाकर कमलेश रजक के पक्ष में हवा बनाने की नाकाम कोशिश.. इधर जांच अधिकारी ने कहा- कमलेश रजक के मोबाइल का निकाला जाएगा सीडीआर..

अफवाह फैलाकर कमलेश रजक के पक्ष में हवा बनाने की नाकाम कोशिश.. इधर जांच अधिकारी ने कहा- कमलेश रजक के मोबाइल का निकाला जाएगा सीडीआर..

बिलासपुर – शहर के सरकंडा लोधिपारा में बहू द्वारा सास को जलाकर मारने वाले मामले में षड्यंत्र पूर्वक पत्रकारों और पुलिस को फंसाकर मामला बदलने के बाद मृतिका की बेटी को लगातार फोन कर प्रताड़ित करने के आरोप में कमलेश रजक का बयान सोमवार को दर्ज करने के बाद अब कॉल डिटेल रिकॉर्ड खंगाली जा रही है.. मृतिका बेगम कौशिक की बेटी नंदनी कौशिक ने कुछ दिनों पूर्व बिलासपुर पुलिस अधीक्षक के सामने पेश होकर कथित पत्रकार कमलेश रजक द्वारा दिन रात फोन करके मानसिक प्रताड़ना व माँ की हत्या के मामले पर षड्यंत्र रचकर आरोपी ललिता कौशिक को अपराध से बचाने का आरोप लगाया था.. जांच में जुटे कोतवाली सीएसपी ने कहा है कि मामले में प्रार्थी और फोन कर प्रताड़ित करने का आरोप झेल रहे पक्ष से बयान लिया जा चुका है.. और अब सीडीआर निकाला जा रहा है.. माना जा रहा है कि सीडीआर फ़ाइल निकलने के बाद मामले में कई चौकाने वाले खुलासे हो सकते है.. क्योंकि पहले ही मृतिका की बेटी ने अपने आवेदन में कहा है कि.. कमलेश रजक द्वारा हत्या की आरोपी के साथ मिलकर मामले को षड्यंत्र पूर्वक पलटने की कोशिश की गईं है..

नंदनी कौशिक ने पहले भी अपने आवेदन में भाभी पर हत्या के मामले में खुदको को फंसता हुआ देखकर जांच अधिकारी और मीडियाकर्मियों को झूठे मामले में फंसाने के चक्कर में षड्यंत्र रचकर आवेदन दिया था.. उसके साथ कुछ असमाजिक तत्व के लोग भी षड्यंत्र में शामिल थे..। पुलिस अधीक्षक के समक्ष प्रस्तुत होकर नंदनी कौशिक ने कहा था कि.. पिछले कुछ दिनों से उसके मोबाइल पर कमलेश रजक नामक व्यक्ति का लगातार फोन आ रहा है.. फोन करने वाला शख़्स खुद को पत्रकार बताकर दिन रात उसको परेशान कर रहा है.. साथ ही नंदनी ने अपने आवेदन में पुलिस अधीक्षक को अंदेशा जताया है कि माँ की हत्या के मामले पर जांच के विषय को भटकाने के लिए कमलेश रजक और कुछ अन्य लोगों की भूमिका संदिग्ध है.. बता दें कि 19 सितंबर 2019 की शाम मृतिका बेगम कौशिक और उसकी बहू ललिता कौशिक के बीच मृत्यु प्रमाण पत्र को लेकर जोरदार विवाद हुआ था जिसके बाद विवाद के दौरान ललिता ने सास पर मिट्टी तेल उढेल कर आग लगा दिया था.. जिसके बाद आसपास के लोगों की सहायता से बेगम कौशिक को सिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था.. जहां पर मरणासन्न में बेगम ने मीडियाकर्मी स्व. अखिलेश डहरिया को कैमरे पर बताया था कि उसकी बहू के द्वारा उसे आग लगाकर मारने की कोशिश की थी.. कुछ दिनों बाद मृतिका की बेटी नंदनी कौशिक को पास के रहवासी चौबे के ज़रिए पता चला कि उसकी मां ने मरने से पहले मीडियाकर्मी के सामने कैमरे पर बयान दिया था जिसके बाद नंदनी ने 2 नवंबर को अखिलेश से वीडियो की सी.डी लेकर 4 नवंबर को एसपी कार्यालय में शिकायती आवेदन के साथ न्याय के लिए गुहार लगाई.. पुलिस अधीक्षक ने मामले में संज्ञान लेते हुए सरकंडा थाने में पदस्थ एस.आई गायत्री सिन्हा को जांच अधिकारी नियुक्त किया था..

झूठी खबर बनाकर कथित मीडियाकर्मी के पक्ष में हवा बनाने की हो रही कोशिश.

जब कभी मालिक को चोट लगती है तो चमचे अपनी वफादारी दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ते है।.. बहरहाल महिला को फोन कर प्रताड़ित करने का आरोप झेल रहे कमलेश रजक के पक्ष में हवा बनाने की कोशिश की जा रही है.. कुछ पोर्टलों द्वारा बिना सच्चाई पता किए आंख बंद कर कथित मीडिया कर्मी के वफादार बनने के चक्कर में हवाहवाई खबर बनाने में जुटे हुए है.. कुछ पोर्टल के द्वारा कथित मीडिया कर्मी कमलेश रजक का जांच झूटी होने का झूठा दावा कर रहे हैं वहीं कोतवाली नगर पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि अफवाहों में ध्यान देने की जरूरत नहीं कानून अपना काम कर रही है.. कमलेश रजक का सीडीआर खंगाली जाएगा.. जांच में आरोप सही साबित होने पर नियमानुसार कर्रवाई की जाएगी..

खबर बनने के बाद पत्रकार उत्पल सेन गुप्ता को राहुल नामक शख्स का आ रहा था फोन..

महिला को फोन कर प्रताड़ित करने और हत्या की आरोपी के साथ मिलकर मामले को घुमाने का आरोप झेल रहे कमलेश रजक के बयान के बाद मामले में खबर बनाने पर पत्रकार उत्पल सेन गुप्ता को किसी राहुल नाम के शख्स का बार बार फोन कर मिलने का दबाव बनाया जा रहा है.. खबर बनने के बाद बहुत से लोग बौखला गए है और बार बार झूठी खबर बनाकर मामले को दूसरी दिशा देने की कोशिश कर रहे हैं.।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *